Yearly Archives: 2005

वास्तविक्ता

कभी वो चित्र आँखो के सामने फिर से प्रकट होता

वो चित्र जिसे कई बार मन की दीवारो पर अपनी आशाओ के

रंगो से बनाया था, कभी अकेले और कभी किसी के साथ मिल कर
Continue reading वास्तविक्ता

पल

वक्त की बदलती हवाओ ने

अक्सर ऐसे मोड पर ला कर छोडा है

जहाँ कुछ राहे आपस मे मिलती है

दिखती है अलग दिशाओ को जाती

पर सभी अतीत के, किसी धागो से जा कर मिलती है

Continue reading पल

लकीरो के निशान

कागज पर बना कर, मिटाई गई लकीरो के कुछ बचे हुऐ निशान
ढूंढते है उन गायब हिस्सो को, जिनसे मिले हुऐ थे कभी
आडी तिरछी लकीरो के, एक अजब से समूह थे कभी
Continue reading लकीरो के निशान